Formulir Kontak

Name

Email *

Message *

इलेक्ट्रॉनिक्स / इलेक्ट्रिकल, सेमीकंडक्टर, इंडक्टर्स, रजिस्टेंस, इलेक्ट्रॉनिक प्रोजेक्ट, बेसिक इलेक्ट्रॉनिक, इलेक्ट्रॉनिक्स ट्यूटोरियल, कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी, और इसी तरह के अन्य इलेक्ट्रॉनिक्स संबंधित जानकारीयाँ पूर्ण रूप से हिन्दी में ……

Friday, December 7, 2018

what is capacitor,capacitor types and its works.

capacitor types

capacitor types
capacitor types

capacitor types

Types of Capacitors

2- Electrolytic Condenser

3-mica and ceramic Condenser

4-Disk or Paper Condenser

5- Variable Condenser

6-Gang

7-Trimmer


11-  Electrolytic Condenser :- इलेक्ट्रोलैटिक कैपीसिटर का  प्रयोग इलेक्ट्रॉनिक सिर्किट में फिल्टर के लिया किया जाता है, condencer का गुण होता है की यह a/c करंट को अपने अंदर से पास होने देता है तथा d/c करंट के लिया औरोध उत्पन करना इसका  गुण है इसके  ऊपर इसका मान तथा वोल्टेज अंकित होता है, इसका वर्किंग value कम तथा वर्किंग voltage ज्यादा होता है!
22-  mica and ceramic Condenser :-  इसका उपयोग इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में दो amplifire को जोड़ने के लिये किया जाता है, इसका वर्किंग value कम तथा वर्किंग voltage ज्यादा होता है!
33-  Disk or Paper Condenser :- इस प्रकार के condenser का उपयोग इलेक्ट्रानिक सर्किट में बाईपास फ़िल्टर के लिये किया जाता है इसका वर्किंग value तथा वर्किंग voltage दोनों कम होते है!
44-  Gang and Trimmer :- यह एक प्रकर का variable capacitor ही होता है जिसका प्रयोग एक विशेष फ्रीक्वेंसी को चुनने के लिये किया जाता है, इस प्रकार के capacitor भी इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में  काफी ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है
J
fixed capacitor
fixed capacitor

condenser Test

51-  electrolytic Condenser :- electrolytic condenser के ऊपर इसका मान तथा voltage लिखा गया होता है तथा इसपर positive और negative दोनों पोल अंकित होते है, इस condenser के positive पोल पर multimitter का positive लीड और negative पोल पर negative लीड रखते है तो multimitter का सुई फुल charg बताता है एवं कुछ समय बाद वह अपने स्थान पर आ कर  रुक जाता है जिससे यह जाहिर  होता है की एक condenser में charg और डिस्चार्ज का गुण होता है, इस तरह का रिजल्ट मिलने पर condenser को सही माना जायेगा, अगर condenser कोई चार्ज नही बताता है अर्थात multimitter का सुई  स्थीर रहता है तो उस अवस्था में condencer को ओपन माना जायेगा, अगर यह चार्ज बताने के बाद आधा discharg होता है तो वह condencer लीक समझा जायेगा, परन्तु multimitter का सुई केवल फुल बताता रहे तो इस अवस्था उस condenser को शोर्ट समझा जायगा !
62-  Disk,mica,ceramic,Gang,Trimmer Type Condenser :- इन सभी प्रकार के condenser को मापने पर  कोई Reading या चार्ज नही बताता है तो वे सभी condenser सही मने जायेंगे, अगर यह चार्ज बताता है तो यह शोर्ट माना जायगा, अगर यह ओपन हो तो उस अवस्था में भी यह multimitter में कोई Reading नही बतायेगा इसके जाँच के लिये a/c के सीरीज कनेक्शन में लगा कर इसके मान को पढ़ा जायगा, इस प्रकार के condenser में posative या negative पोल अंकित नही किया गया होता है इसलिये इसे सिर्किट किसी भी तरफ से लगाया जा सकता है इसके दोनों टर्मिनल में कोई अंतर नही होता है !
;;
capacitor internal structure
capacitor internal structure

Connection of capacitor

1- Series Connections
2- Parallel Connection
1 1- Series Connections :- जब पहले condenser के संघनक पतिका के positive टर्मिनल को दुसरे condencer के नेगेटिव टर्मिनल के  संघनक पतिका से जोड़ते है तो इस प्रकार के  कनेक्शन को सीरीज कनेक्शन कहा जाता है, प्रथम condenser के संघनक पटिका को positive सप्लाई तथा अंतिम condenser के संघनक पटिका को Ground (अर्थ )कर देते है तो condenser C1 के संघनक पटी के भीतरी तल पर ऋण आवेश तथा बाहरी तल पर धन आवेश होता है, इसी प्रकार C2 , C3 , के भीतरी संघनक पटिका के भीतरी तल पर ऋण आवेश तथा बाहरी  तल पर धन आवेश होता है, इस प्रकार के Connections को सीरीज कनेक्शन कहा जाता है !
capacitor series connections
capacitor series connections
इससे यह पता चलता है की condenser को सीरीज में  कनेक्शन करने पर इसका मान बढ़ता है
2 2-  Parallel Connection :- पहले condenser के संघनक पटिका T1 को दुसरे condenser के संघनक पटिका के बिंदु T1 पर जोड़ते है तथा condencer के संघनक पटिका T2 को दुसरे condenser के संघनक पटिका T2 से जोड़ते है तो इस प्रकार की Connections को Parallel  कनेक्शन कहा जाता है !
capacitor Paraller connections
capacitor Paraller connections
इससे यह सिद्ध होता है की किसी condenser के बीच जब Parallel कनेक्शन किया जाता है तो उसका मान बढ़ता है !
       इस प्रकार से हम देखतें हैं की कैपेसिटर के विभिन्न प्रकार होते है, कैपेसिटर के मुल्य निर्धारण की आवशयकता इलेक्ट्रानिक सर्किट निमार्ण एवं रिपेयरिंग के उदेश्यों को पुरा करनें के लिए एक महत्वपूर्ण जानकारी है, इसके आभाव में इलेक्ट्रानिक क्षेत्र के अंतर्गत कार्य कर पाना संभव नहीं है अतः इसे भी जानना चाहिए।


------------------------------------------------------
NEXT ARTICLE Next Post
PREVIOUS ARTICLE Previous Post
NEXT ARTICLE Next Post
PREVIOUS ARTICLE Previous Post
 

Delivered by FeedBurner